Personalized
Horoscope
  • AstroSage Big Horoscope
  • Year Book
  • Raj Yoga Report
  • Shani Report

बुध का मिथुन राशि में गोचर - 2 जून, 2019

वैदिक ज्योतिष में बुध ग्रह को प्राकृतिक रूप से शुभ ग्रह माना गया है। हालांकि बुध ग्रह शुभ ग्रह के संपर्क में आने पर शुभ प्रभाव व अशुभ ग्रह के संपर्क में आने पर बुरे प्रभाव भी देने लगता है। बुध ग्रह को बुद्धि, वाणी, तर्क शक्ति, गणित, व्यापार, सांख्यिकी और यात्राओं का कारक माना गया है। बुध ग्रह को मिथुन और कन्या राशि का स्वामित्व प्राप्त है। वहीं बुध अश्लेषा, ज्येष्ठा और रेवती नक्षत्र के स्वामी होते हैं। बुध के शुभ प्रभाव वाले जातक आमतौर पर एक अच्छे वक्ता, तर्क शक्ति और गणितीय कार्यों में निपुण होते हैं।

Budh Gochar Mithun

बुध का प्रभाव

बुध ग्रह को सनातन धर्म में देवता के रुप में पूजा जाता है। बौद्धिक कार्यों में सफलता पाने के लिए और कारोबार की स्थिति को सुधारने के लिए भी बुध ग्रह की पूजा-अर्चना की जाती रही है। हिंदु शास्त्रों के अनुसार बुध हमारी प्रज्ञा के देवता हैं। इसी लिए यदि बुध अगर कुंडली में शुभ ग्रहों के साथ विराजमान है तो जातक को जीवन में समृद्धि मिलती है। वहीं आपकी कुंडली में बुध अगर अनुकूल अवस्था में न हो तो आपको बुध से जुड़े उपाय करने चाहिए। ऐसा करने से जीवन में आ रही कई परेशानियां दूर हो जाती हैं।

छात्रों पर बुध का असर

अगर छात्रों की बात करें तो उनके लिए बुध की स्थिति का अच्छा होना अति आवश्यक होता है, क्योंकि बुध को बुद्धि दाता ग्रह माना जाता है। खासकर वो छात्र जो गणित से संबंधित विषयों का अध्ययन कर रहे हैं। उन्हें बुध की स्थिति को मजबूत करने के लिए हरे वस्त्र पहनने चाहिएँ और बुध यंत्र स्थापित कर बुध बीज मंत्र का जाप करना चाहिए।

मंत्र- “ॐ ब्रां ब्रीं ब्रौं सः बुधाय नमः!”

बुध गोचर का समय

बुद्धि, तर्कशक्ति और वाणी का कारक बुध ग्रह अब एक बार फिर राशि परिवर्तन करते हुए 2 जून 2019, रविवार प्रातः 00:08 बजे वृषभ से मिथुन राशि में गोचर करेगा और 21 जून 2019, शुक्रवार प्रातः 02:19 बजे तक इसी राशि में स्थित रहेगा। इस अवधि में बुध ग्रह के गोचर का प्रभाव सभी 12 राशियों पर देखने को मिलेगा। आईये जानते हैं आपकी राशि पर बुध के इस गोचर का क्या असर होगा।

Click here to read in English…

यह राशिफल चंद्र राशि पर आधारित है। चंद्र राशि कैल्कुलेटर से जानें अपनी चंद्र राशि

मेष

बुध देव का गोचर आपकी राशि से तृतीय भाव में होगा। काल पुरुष कुंडली में यह भाव मिथुन राशि का होता है और इसे पराक्रम भाव भी कहा जाता है। इस भाव से हम छोटे भाई-बहनों से आपके संबंधो का, आपके साहस का और लघु यात्राओं का पता लगाते हैं। तृतीय भाव में बुध के गोचर से आपका ध्यान पूरी तरह से आपके लक्ष्य पर होगा। आप पूरी एकाग्रता से अपना कार्य कर पाने में सक्षम होंगे। इस राशि के जो जातक मीडिया, लेखन और मार्केटिंग व्यवसाय से जुड़े हैं उन्हें इस दौरान लाभ मिलेगा। छात्रों को भी शिक्षा के क्षेत्र में अच्छे परिणाम मिलेंगे। इस अवधि में आपकी वाणी में मधुरता देखी जा सकती है। अगर आपके पिता जॉब करते हैं तो उन्हें प्रगति मिलने के पूरे आसार हैं, हालांकि उनकी सेहत में थोड़ी गिरावट आ सकती है। शादीशुदा लोगों के लिए यह गोचर अच्छा रहेगा, आपके जीवनसाथी को इस दौरान अच्छे फल प्राप्त होंगे।

उपाय: बुधवार के दिन ताज़े फलों का दान करें।

वृषभ

बुध देव आपकी राशि से द्वितीय भाव में गोचर करेंगे। द्वितीय भाव को धन भाव भी कहा जाता है इसलिए बुध के द्वितीय भाव में गोचर के दौरान आप धन संचय कर पाने में सक्षम होंगे। इस समयावधि में आपको अच्छे व्यंजन खाने का मौका भी मिल सकता है। छात्रों के लिए यह गोचर सकारात्मक परिणाम लेकर आएगा। इस दौरान आप शिक्षा के क्षेत्र में अच्छा प्रदर्शन कर सकते हैं। सामाजिक स्तर पर आपको थोड़ा सावधान रहने की आवश्यकता है। आपकी वाणी में इस दौरान कड़वाहट आ सकती है। इसलिए लोगों से सोच-समझकर बातें करें। शादीशुदा हैं तो अपने जीवनसाथी की बातों को समझने की कोशिश करें। जीवनसाथी के स्वास्थ्य के प्रति भी इस दौरान आपको सचेत रहना होगा उनकी तबीयत बिगड़ सकती है। आर्थिक पक्ष सामान्य रहेगा, प्रॉपर्टी से जुड़े मामलों में आपको लाभ हो सकता है। इस राशि के वो जातक जो प्रेम में पड़े हैं अपनी बातों को इस दौरान सही तरीके से अपने साथी के सामने रख पाएंगे।

उपाय: बुधवार के दिन अपनी कनिष्ठ उंगली में पन्ना रत्न धारण करें।

मिथुन

बुध ग्रह का गोचर आपकी राशि यानि आपके लग्न भाव या प्रथम भाव में हो रहा है। आप पर इस गोचर का प्रभाव बाकी राशियों से अधिक होगा। अपने अच्छे स्वभाव के कारण आप लोगों के बीच आकर्षण का केंद्र बनेंगे। समाज के बीच आपकी छवि सुधरेगी और लोग आपको सम्मान की दृष्टि से देखेंगे। इस गोचर के चलते आपके स्वास्थ्य में भी कई सकारात्मक बदलाव देखने को मिल सकते हैं। वैवाहिक जीवन की सारी परेशानियां इस दौरान दूर हो जाएंगी और आप अपने जीवनसाथी के साथ अच्छा वक्त बिता पाने में सक्षम होंगे। पारिवारिक जीवन भी पहले से बेहतर रहेगा। आपके घर वालों के चेहरे पर हंसी देखकर आपके चेहरे पर भी मुस्कान आ जाएगी। इस गोचर के दौरान आपकी बोलने की कला से लोग प्रभावित होंगे, कुछ लोग इस दौरान आपकी सलाह भी ले सकते हैं। छात्रों को अपनी मेहनत का अच्छा फल इस दौरान मिल सकता है। जो छात्र घर से बाहर रहकर पढ़ाई कर रहे हैं उन्हें इस गोचर के दौरान गलत संगति में पड़ने से बचना चाहिए।

उपाय: नियमित रूप से ‘ॐ बुं बुधाय नमः’ मंत्र का जप करें।


अवश्य पढ़ें: प्रत्येक ग्रह की शांति के लिए विशेष ज्योतिषीय उपाय

कर्क

बुद्धि दाता ग्रह बुध का गोचर आपकी राशि से द्वादश भाव में हो रहा है। यह भाव व्यय भाव भी कहलाता है। इस भाव में बुध के गोचर से आपके ख़र्चों में वृद्धि हो सकती है। इस दौरान कोर्ट-कचहरी से जुड़े मामलों में ना पड़ें नहीं तो धन खर्च हो सकता है। स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए इस दौरान आपको प्रयास करने चाहिए। व्यायाम और अच्छे खानपान से आप कई शारीरिक समस्याओं से बच सकते हैं। सामाजिक स्तर पर आपको संभलकर चलना होगा, विवाद की स्थिति बन सकती है। इस गोचर की अवधि में इस राशि के कुछ जातक विदेश यात्रा पर भी जा सकते हैं। नौकरी पेशा से जुड़े लोगों के लिए समय अच्छा है आप कार्यक्षेत्र में अपने अच्छे काम से सबको प्रभावित करेंगे। आपके भाई-बहनों को इस दौरान प्रगति मिलेगी। माता-पिता से बातें करके आपको अच्छा महसूस होगा। कुछ बीती बातों को याद करके घर का माहौल खुशनुमा हो सकता है।

उपाय: श्री विष्णु मंदिर में शुद्ध गाय का घी चढ़ाएँ।

सिंह

बुध देव आपकी राशि से एकादश भाव में गोचर करेंगे। काल पुरुष की कुंडली में यह भाव कुंभ राशि का होता है। इस भाव से हम लाभ, आय और बड़े भाई-बहनों से आपके संबंधों के बारे में विचार करते हैं। इस गोचर के दौरान नौकरी पेशा लोगों को अच्छे फल मिलने की पूरी उम्मीद है। आपकी आय में इस दौरान वृद्धि हो सकती है। जो इच्छाएं आपने दिल में दबाकर रखीं थी वो भी इस अवधि में पूरी हो सकती हैं। सामाजिक स्तर पर आपका वर्चस्व बढ़ेगा और आपकी मुलाक़ात कुछ ऐसे लोगों से हो सकती है जो आने वाले समय में आपके जीवन में ख़ास महत्व रखेंगे। छात्रों की एकाग्रता में इज़ाफा होगा। आप इस दौरान उन विषयों में भी अच्छा प्रदर्शन कर सकते हैं जिनमें आप कमजोर हैं। नयी चीजों को सीखने में आपकी रूचि बढ़ेगी। प्रेम जीवन की डोर को मजबूत करने की कोशिश करें। अपने जीवनसाथी के साथ ज्यादा से ज्यादा वक्त बिताएं।

उपाय: सूर्य देव की उपासना करें और उन्हें जल चढ़ाएँ

कन्या

बुध ग्रह आपकी राशि से दशम भाव में गोचर करेंगे। इस भाव को कर्म भाव भी कहा जाता है और कुंडली में यह भाव मकर राशि का होता है। इस भाव से हम समाज में आपकी स्थिति, पिता के साथ आपके संबंध के बारे में विचार करते हैं। इस वक्त आपके हाथ में जो भी काम आएगा उसे आप पूरी रचनात्मकता के साथ पूरा करेंगे। कार्यक्षेत्र में अच्छा काम करेंगे, लोगों से बात करना इस दौरान आपको ज्यादा पसंद नहीं आएगा। कारोबारियों ने भविष्य को सुधारने के लिए जो नई योजनाएं बनाई थीं उनसे लाभ प्राप्त हो सकता है। पारिवारिक जीवन में थोड़ी बहुत नोक झोक हो सकती है। समस्याओं का समाधान निकालने के लिए प्रयास करें। काफी कामों में व्यस्त होने के कारण इस दौरान आप खुद के लिए समय नहीं निकाल पाएंगे। विदेश यात्रा पर जाने का मन बनाया है तो इस दौरान आप जा सकते हैं। किसी भी परिस्थिति में खुद को शांत रखने के लिए योग ध्यान का सहारा लें।

उपाय: बुधवार के दिन अपनी कनिष्ठ अंगुली में उत्तम कोटि का पन्ना धारण करें।


अभी प्राप्त करें अपनी निःशुल्क शनि साढ़े साती रिपोर्ट

तुला

बुध का गोचर आपके धर्म भाव यानि नवम भाव में हो रहा है। काल पुरुष की कुंडली में यह भाव धनु राशि का होता है और इस भाव से हम धर्म, किस्मत आध्यात्मिकता के बारे में विचार करते हैं। इस भाव में बुध के गोचर से आपको सकारात्मक परिणाम मिलेंगे। किस्मत का साथ इस दौरान आपके साथ रहेगा। धन लाभ के योग बन रहे हैं। सामाजिक स्तर पर आपका कद बढ़ेगा। आपकी स्पष्टवादिता आपको लोकप्रिय बनाएगी। अपने ज्ञान का सही इस्तेमाल आप इस दौरान कर पाएंगे। इस दौरान धर्म से जुड़ी बातें आपको आकर्षित करेंगी और आप किसी आध्यात्मिक गुरु के संपर्क में भी आ सकते हैं। गोचर के दौरान विदेश यात्रा के भी योग बनेंगे। पारिवारिक जीवन सामान्य रहेगा। पिता के साथ किसी बात को लेकर अनबन हो सकती है। शादीशुदा लोगों के लिए यह गोचर शुभ है। आपके जीवनसाथी को भी इसके अच्छे परिणाम मिलेंगे। छात्र इस दौरान अपने भविष्य को लेकर कोई बड़ा फैसला ले सकते हैं।

उपाय: ‘ॐ ब्रां ब्रीं ब्रौं सः बुधाय नमः’ मंत्र का जप करें।

वृश्चिक

आपके अष्टम भाव में बुध देव का गोचर होने वाला है। इस भाव में बुध के गोचर के दौरान आपको धन से जुड़े मामलों में सतर्कता से चलना होगा। छोटी सी भूल भी आपको नुक्सान पहुंचा सकती है। कारोबारी किसी तरह की गुप्त संधि इस दौरान कर सकते हैं। इस राशि के कुछ जातकों को अचानक लाभ होने की भी संभावना है। सेहत के प्रति आपका ढुलमुल रवैया आपको परेशानी दे सकता है। सेहत में सुधार करने के लिए आपको शारीरिक रूप से सक्रिय होना पड़ेगा। इसके लिए आप सुबह-शाम सैर पर जा सकते हैं या घर पर रहकर व्यायाम कर सकते हैं। त्वचा से संबंधित कोई बीमारी है तो तुरंत डॉक्टरी सलाह लें। वाणी में मिठास बनाए रखने की इस समय कोशिश करें। छात्रों को शिक्षा के क्षेत्र में अच्छे परिणाम प्राप्त करने के लिए अपनी मेहनत बढ़ानी होगी। जिन छात्रों को गणित से जुड़े विषयों को समझने में परेशानी होती है उन्हें इस दौरान अपने गुरुजनों या सहपाठियों की मदद लेनी चाहिए।

उपाय: बुधवार के दिन गौशाला में साबुत मूँग की दाल दान करें।

धनु

बुध देव का गोचर आपकी राशि से सप्तम भाव में होगा। इस भाव को विवाह भाव भी कहा जाता है और इस भाव से जीवन में होने वाली साझेदारियों के बारे में पता चलता है। इस दौरान आप अपनी संवाद शैली से अपने जीवनसाथी को प्रभावित कर सकते हैं लेकिन किसी बात को लेकर विवाद की स्थिति भी बन सकती है। हालांकि यह विवाद ज्यादा समय तक नहीं चलेगा। नौकरी पेशा लोगों को इस गोचर से अच्छे परिणाम मिलेंगे। इस दौरान आपका प्रमोशन हो सकता है इसके साथ ही आय में भी वृद्धि हो सकती है। सामाजिक रूप से इस दौरान आप सक्रिय रहेंगे और आपके सुलझे हुए विचार लोगों को आपकी ओर आकर्षित करेंगे। वैवाहिक जीवन की कई समस्याएं इस दौरान दूर हो सकती हैं। आपके जीवनसाथी का स्वास्थ्य इस दौरान अच्छा रहेगा। प्रेम में पड़े इस राशि के जातक शादी के बंधन में बंधने का विचार इस दौरान बना सकते हैं।

उपाय: गाय को गुड़ खिलाएं।

मकर

बुध का यह गोचर आपकी राशि से षष्टम भाव में होगा। इस भाव में बुध के गोचर के चलते कोर्ट-कचहरी से जुड़े मामलों में आपको मनमाफिक परिणाम मिल सकते हैं। जिससे आपके जीवन की कई परेशानियां दूर हो जाएंगी। इस अवधि में आपके शत्रु आप पर हावी नहीं हो पाएंगे। आपकी तार्किक क्षमता आपके विरोधियों को आपके सामने टिकने नहीं देगी। हालांकि किसी भी क्षेत्र में अच्छे फल पाने के लिए इस दौरान आपको कड़ी मेहनत करनी पड़ेगी। आर्थिक पक्ष भी सामान्य रहने की उम्मीद है। बेवजह के खर्चे आपको मानसिक तनाव दे सकते हैं। जीवनसाथी के प्रति अपने दायित्वों को समझें। अगर उन्हें किसी तरह की परेशानी है और वो आपसे कहने में घबरा रहे हैं तो उनके साथ वक्त बिताकर उनके मन की बात जानने की कोशिश करें। जो जातक किसी सरकारी नौकरी की तैयारी कर रहे हैं उन्हें अधिक मेहनत करने की इस दौरान जरूरत है, तभी अच्छे परिणाम मिलेंगे।

उपाय: शुद्ध घी का दीपक जलाकर ‘श्री विष्णु सहस्रनाम’’ का जप करें।

कुंभ

बुध का गोचर आपकी राशि से पंचम भाव में होगा। काल पुरुष की कुंडली में यह भाव सिंह राशि का होता है। यह भाव कारक है आपके ज्ञान का, संतान का और विद्या का। इस भाव में बुध के गोचर से छात्रों को अच्छे परिणाम मिलेंगे। शिक्षा के क्षेत्र में आप अच्छा प्रदर्शन कर पाएंगे। आपकी बौद्धिक क्षमता बढ़ेगी और जटिल समस्याओं को भी आप आसानी से हल कर पाएंगे। रचनात्मकता से हर काम को करने की आप कोशिश करेंगे। नौकरी पेशा लोगों की आमदनी में बढ़ोत्तरी हो सकती है। कारोबारियों के लिए भी यह समय अच्छा रहेगा, आप अपने धन का उपयोग इस दौरान लोगों की मदद करने में भी कर सकते हैं। दान-पुण्य करके आपको मानसिक शांति का अनुभव होगा। वैवाहिक जीवन सामान्य से बेहतर रहेगा। इस दौरान जीवन साथी के साथ आप कहीं घूमने का प्लान बना सकते हैं। बच्चों की सेहत इस दौरान दुरुस्त रहेगी। अच्छे समय का आनंद लें।

उपाय: गाय की सेवा करें और उन्हें हरी सब्जियाँ खिलाएँ।

मीन

बुध ग्रह आपकी राशि से चतुर्थ भाव में गोचर कर रहा है। यह भाव सुख भाव भी कहलाता है। पारिवारिक जीवन के लिए यह गोचर बहुत शुभ है। परिवार के लोगों के बीच इस समय सामंजस्य देखने को मिलेगा। परिवार की अच्छी स्थिति आप के अंदर जोश भरेगी और इसके चलते निजी जीवन में भी आप अच्छा प्रदर्शन कर पाएंगे। इस राशि के कुछ लोग इस दौरान नया घर या वाहन खरीद सकते हैं। हालांकि कोई भी फैसला लेने से पहले यह जरूर देख लें कि इससे आपकी आर्थिक स्थिति न बिगड़े। कार्यक्षेत्र में आप अपनी क्षमता का सही तरीके से इस्तेमाल कर पाएंगे। इसके अच्छे परिणाम भी आपको भविष्य में मिलेंगे। आपके जीवनसाथी के लिए भी यह गोचर अच्छा है। माता जी का स्वास्थ्य इस दौरान अच्छा रहेगा जिससे आपको भी प्रसन्नता प्राप्त होगी।

उपाय: हरे रंग की गणेश जी की प्रतिमा को दूर्वा (घास) चढ़ाएँ।

2019 गोचर

मंगल का मकर में गोचर मंगल वृश्चिक में वक्री मंगल का वृश्चिक में गोचर मंगल का तुला राशि में गोचर मंगल का कन्या में गोचर मंगल का सिंह राशि में गोचर मंगल अस्त मेष राशि में मंगल का मेष में गोचर मंगल का मीन में गोचर मंगल का मिथुन में गोचर मंगल का वृषभ में गोचर मंगल का वृषभ में गोचर मंगल का गोचर कुम्भ राशि में शनि वृश्चिक में अस्त शनि वक्री वृश्चिक में वृश्चिक राशि में शनि उदय सूर्य का तुला राशि में गोचर सूर्य का मीन में गोचर सूर्य का कुम्भ में गोचर सूर्य का मकर में गोचर सूर्य का धनु राशि में गोचर सूर्य का वृश्चिक राशि में गोचर सूर्य का कन्या राशि में गोचर सूर्य का सिंह राशि में गोचर सूर्य का कर्क में गोचर सूर्य का मिथुन में गोचर सूर्य का वृषभ में गोचर सूर्य का मेष में गोचर सूर्य का वृषभ में गोचर सूर्य का मिथुन में गोचर
धनु राशि में शुक्र का गोचर शुक्र का वृश्चिक में गोचर शुक्र का कन्या में गोचर शुक्र कर्क में मार्गी शुक्र का मीन में गोचर शुक्र का कुम्भ में गोचर शुक्र का मकर में गोचर शुक्र मेष में अस्त शुक्र का वृश्चिक में गोचर शुक्र का तुला में गोचर मंगल का कर्क में गोचर अस्त शुक्र का कर्क में गोचर शुक्र सिंह राशि में वक्री शुक्र का वृषभ में गोचर शुक्र का मेष में गोचर शुक्र का सिंह में गोचर शुक्र का मिथुन में गोचर शुक्र का कर्क में गोचर शुक्र का मिथुन में गोचर शुक्र का वृषभ में गोचर शुक्र का वृश्चिक में गोचर वृश्चिक राशि में शुक्र उदय गुरु कन्या राशि में वक्री गुरु का सिंह में गोचर गुरु सिंह राशि में अस्त गुरु कर्क राशि में मार्गी कर्क राशि में बृहस्पति वक्री गुरु कर्क राशि में मार्गी शनि धनु राशि में वक्री

Buy Your Big Horoscope

100+ pages @ Rs. 650/-

Big horoscope

AstroSage on MobileAll Mobile Apps

AstroSage TVSubscribe

Buy Gemstones

Best quality gemstones with assurance of AstroSage.com

Buy Yantras

Take advantage of Yantra with assurance of AstroSage.com

Buy Feng Shui

Bring Good Luck to your Place with Feng Shui.from AstroSage.com

Buy Rudraksh

Best quality Rudraksh with assurance of AstroSage.com

Reports