Personalized
Horoscope

कुम्भ का मासिक राशिफल / Kumbha Masik Rashifal in Hindi

July, 2017
सामान्य
इस महीने शनि देव की दशम भाव में गोचरीय स्थिति के कारण आपकी संघर्ष क्षमता बढ़ जाएँगी। आप अपने कार्यक्षेत्र में जमकर मेहनत करेंगे। माता को स्वास्थ्य का ख्याल रखना होगा। मानसिक शांति भंग होने की सम्भावना रहेगी। गुरु की अष्टम भाव में गोचरीय स्थिति आपके व माता के आध्यात्मिक पक्ष को मजबूत करेगी। माता का स्वास्थ्य काफी बेहतरीन रहने की उम्मीद है। आपको अच्छा धन लाभ संभव है। इस अवधि में आपके घर खरीदने की सम्भावना बन रही है। राहु का सप्तम भाव से गोचर वैवाहिक जीवन के लिए एक अच्छा संकेत नहीं है। जीवनसाथी को अपने स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहना होगा। रिश्तों में तनाव रहने की भी सम्भावना है। बिज़नेस में कोई परिवर्तन हो सकता है। इससे जुड़ी यात्रा भी आप कर सकते हैं। व्यापार में विदेशी स्रोतों से लाभ संभव है। केतु की प्रथम भाव में गोचरीय स्थिति आपके अंदर विरक्ति का भाव पैदा कर सकती है। आपकी आध्यात्मिक गतिविधियाँ तेज हो सकती है। अपने स्वास्थ्य का आपको ख्याल रखना होगा।
आर्थिक
आर्थिक क्षेत्र में आपको संभलकर क़दम बढ़ाने होंगे। बिज़नेस अथवा नौकरी में परिवर्तन संभव है। अचानक आपको धन लाभ अथवा हानि हो सकती है। द्वितीय व एकादश भाव के स्वामी गुरु का अष्टम भाव में गोचर आपके ख़र्चों को बढ़ाने की ओर संकेत कर रहा है। मगर आध्यात्मिक क्रियाकलापों से धन प्राप्त होने का यह एक अच्छा लक्षण है। राहु के सप्तम भाव में गोचर करने के कारण आप व्यापार में कोई परिवर्तन कर सकते हैं। इस दौरान विदेशी स्रोतों से लाभ मिलने की भी सम्भावनाएं हैं, मगर धन का निवेश सोच-समझकर ही करें। इस अवधि में आर्थिक हानि होने के लक्षण भी नजर आ रहे हैं।
स्वास्थ्य
केतु का प्रथम भाव में गोचर स्वास्थ्य के लिहाज से शुभ नहीं है। ज्यादा कार्य करने से आपको मानसिक तनाव व चिड़चिड़ापन होने की सम्भावना है। मानसिक राहत पाने के लिए आप कोई आध्यात्मिक यात्रा पर भी निकल सकते हैं। इस अवधि में पेट से जुड़ी समस्याएं आपको सता सकती हैं। खाने-पीने की वस्तुओं पर आपको विशेष ध्यान देना होगा। चटपटी व मसालेदार चीज़ों से परहेज करना बेहतर होगा। पूजा-पाठ, मंत्र जाप, योग व ध्यान आपकी मानसिक शांति को बढ़ा सकते हैं इसलिए बिना वक़्त गवांए इन उपायों पर अमल करना शुरू करें।
प्रेम व वैवाहिक
दाम्पत्य जीवन के लिए यह माह थोड़ा सावधानी रखने का है। राहु का सप्तम भाव से गोचर आपके वैवाहिक सम्बन्धों में खटास लाने के लिए काफी है। जीवनसाथी के साथ कुछ मनमुटाव व मतभेद उत्पन्न होने की सम्भावना है, इसलिए जहाँ तक हो सके वाणी पर संयम बरतें। अपने जीवनसाथी की भावनाओं को समझने की कोशिश करें। इस दौरान आपके पार्टनर को अपने स्वास्थ्य के प्रति सचेत भी रहना होगा। कार्यक्षेत्र के चलते आपके पार्टनर की कोई यात्रा भी संभव है। प्रेम सम्बन्धों के लिए यह समय काफी चुनौतीपूर्ण रह सकता है। किसी बात को लेकर साथी से बहसबाज़ी हो सकती है। यदि आप अपने प्रेमी को विवाह के बंधन में बाँधना चाहते हैं तो आपको धैर्य रखना चाहिए।
पारिवारिक
पारिवारिक जीवन के लिए यह समय मिला-जुला रह सकता है। द्वितीय भाव के स्वामी गुरु की अष्टम भाव में स्थिति परिवार में मतभेद या तनाव उत्पन्न कर सकती है। इस दौरान किसी सदस्य को अपने स्वास्थ्य के प्रति भी सतर्क रहने की आवश्यकता होगी। इस माह आप मकान अथवा वाहन खरीद सकते हैं। परिवार के लिए सुख सुविधाओं की वस्तुएं जुटाने में आप काफी व्यस्त रहने वाले हैं। माता की मदद से आपको कोई आर्थिक लाभ भी संभव है। उनका स्वास्थ्य इस अवधि में काफी अच्छा रह सकता है। संतान को स्वास्थ्य के प्रति सतर्कता बरतनी होगी।
उपाय
काली मिर्च का खाने में प्रयोग किसी न किसी रुप में अवश्य करें।
शुभ दिन
4, 8,13,17, 22

AstroSage on MobileAll Mobile Apps

AstroSage TVSubscribe

Buy Gemstones

Best quality gemstones with assurance of AstroSage.com

Buy Yantras

Take advantage of Yantra with assurance of AstroSage.com

Buy Navagrah Yantras

Yantra to pacify planets and have a happy life .. get from AstroSage.com

Buy Rudraksh

Best quality Rudraksh with assurance of AstroSage.com

Reports

FREE Matrimony - Shaadi